पति की हत्या कर शव किचन में दफनाया, एक महीने तक उसकी कब्र पर बनाती रही खाना

अनूपपुर शुक्रवार 22 नवम्बर, 2019 . यहां अमरकंटक इलाके में हत्या की का एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। एक महिला ने अपने पति की हत्या कर उसका शव किचन में दफना दिया। इतना ही नहीं, जिस किचन में पति का शव दफनाया, एक महीने तक उसकी कब्र पर खाना बनाती रही। इस हत्याकांड का खुलासा होने के बाद पुलिस ने आरोपी महिला को गिरफ्तार कर लिया है। जानकारी के मुताबिक, मामला अमरकंटक के करोंदी गांव का है। यहां 32 साल की प्रतिमा बनावल ने अपने पति महेश बनावल की हत्या करके लाश को किचन में ही दफन कर दिया। शव दफनाने के बाद उसके पास में ही चूल्हा बनाया। उस पर करीब एक महीने तक वह खाना बनाती रही। गुरुवार को जब इस मामले का खुलासा हुआ तो उस चूल्हे के पास बने कब्र से शव निकाला गया।  
पत्नी ने पति की गुमुशुदगी की शिकायत पुलिस से की थीहत्या के बाद महिला ने स्थानीय पुलिस थाने में 22 अक्टूबर को पति की गुमशुदगी की रिपोर्ट भी दर्ज करा दी। पुलिस मामले की जांच में जुट गई। लेकिन मृतक महेश के बड़े भाई अर्जुन बनावल को कुछ शक हुआ। उन्होंने पुलिस को फोन कर यह जानकारी दी कि उसके भाई के घर में कुछ गडबड़ है, मैं उसके घर जाता हूं तो उसकी पत्नी हर बार मुझे बाहर से ही भेज देती है। 
इस जानकारी के आधार पर पुलिस मृतक के घर पहुंची तो उन्हें शव की गंध आई। जब किचन में पहुंचे तो गंध और तेज हो गई। इसके बाद पुलिस ने किचन में खुदाई कर शव बाहर निकाला। 
आरोपी पत्नी बोली- जेठ भी हत्या में शामिल: गिरफ्तारी के बाद आरोपी पत्नी प्रमिला ने कहा कि पति के जेठानी के साथ अवैध संबंध थे। मैंने कई बार उसे अपने आंखों से उसके साथ देखा था। लेकिन झगड़े और मारपीट के डर से मैंने कभी इन चीजों का जिक्र उससे नहीं किया।
जेठ ने कहा- मैं इस हत्या में शामिल नहीं हूं इस बात की जानकारी अपने जेठ और मृतक के बड़े भाई गंगाराम बनावल को दी थी। इसके बाद हमने मिलकर उसे मारने का प्लान बनाया। ये सुनकर पुलिस भी हैरान हो गई। वहीं बड़े भाई गंगाराम ने विरोध दर्ज कराते हुए कहा कि उसके छोटे भाई की पत्नी बहुत चालाक है। मैं इस कत्ल में शामिल नहीं हूं।

 
 
Advertisment
 
Important Links
 
Important RSS Feed
MP Info RSS
Swatantra Khat RSS
 
वीडियो गेलरी




More
 
फोटो गेलरी
More
 
हमारे बारे में हमसे संपर्क करें      विज्ञापन दरें      आपके सुझाव      संस्थान      गोपनीयता और कुकीज नीति    
Copyright © 2011-2022 Swatantra Khat