मध्यप्रदेश विधानसभा - शीतकालीन सत्र का तीसरा दिन : ध्यानाकर्षण पर जमकर हुआ बवाल

भोपाल : बुधवार 22 दिसम्बर 2021 आज मध्यप्रदेश  विधानसभा के शीतकालीन सत्र के तीसरे दिन दैनिक कार्य सूची में चार ध्यानाकर्षण लिए गए थे। बहस के दौरान बिजली बिल और खाद्य संकट के मुद्दे पर जम कर बवाल हुआ। सरकार के जवाब से विपक्ष संतुष्ट नहीं हुआ। विपक्ष सदन से वॉकआउट कर गया।
 कांग्रेस विधायक पीसी शर्मा ने कोरोना काल में बिजली के बढ़े हुए बिलों को लेकर सदन का ध्यानाकर्षण कराते हुए सरकार पर आरोप लगाया कि इस संकट के दौर में भी बढ़े हुए बिजली के बिल उपभोक्ताओं को भेज कर जबरन वसूले जा रहे हैं। वही कांग्रेस विधायक कमलेश्वर पटेल ने आरोप लगाया कि सरकार लोक अदालत और बिजली बिल समाधान योजना के माध्यम से किसानों को नोटिस भेजकर वसूली कर रही है। इसे रोका जाना चाहिए।


ऊर्जा मंत्री का गोल - मोल जवाब -कांग्रेस 


इस पर ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने इसके जवाब में कहा कि सरकार ने कोरोना काल में बिजली के बिलों की वसूली नहीं करने की कोई घोषणा नहीं की थी, लेकिन सरकार ने छूट जरूर दी थी l उन्होंने दावा किया कि यदि किसी उपभोक्ता को बिजली की खपत से ज्यादा बिल भेजा गया है तो उसे सुधारा जाएगा।


किसानों को सरकार खाद नहीं लाठी दे रही है : कांग्रेस


इसी तरह कांग्रेस विधायक डॉक्टर गोविंद सिंह ने प्रदेश में खाद्य संकट का मुद्दा ध्यानाकर्षण के माध्यम से सदन में रखा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में किसानों को समय पर खाद नहीं मिलने के कारण किसान परेशान हैं । प्रदेश में खाद की कमी के चलते किसानों को सड़क पर आना पड़ा। सरकार खाद की जगह किसानों को  पुलिस की लाठियांदिला रही है । इसके जवाब में कृषि मंत्री कमल पटेल ने कहा कि प्रदेश में खाद की कोई कमी नहीं थी। सरकार ने व्यवस्था के अनुसार सोसाइटियों को 70% और प्राइवेट दुकानदारों को 30% खाद उपलब्ध कराई थी। उन्होंने खाद की कमी के आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया। इसके बाद विपक्ष ने मंत्री के जवाब से असंतुष्ट होकर सदन से वॉकआउट कर दिया।

 
 
Advertisment
 
Important Links
 
Important RSS Feed
MP Info RSS
Swatantra Khat RSS
 
वीडियो गेलरी




More
 
फोटो गेलरी
More
 
हमारे बारे में हमसे संपर्क करें      विज्ञापन दरें      आपके सुझाव      संस्थान      गोपनीयता और कुकीज नीति    
Copyright © 2011-2022 Swatantra Khat